चलो मिलके ढूंढे प्यार को

चलो मिलके ढूंढे प्यार को किस गली से शुरु करे बेनिशान है ये गलिया यहा सिर्फ नफरते जिन्दा है और सिर्फ नफरतो की शहनाइया बजति है जो पल भर मे सब लूट गयी बेशक मोहब्बत का भी यही बसेरा था कमबख्त इश्क भी हवाओ मे झूले झूला करता था नजाने अब किस दुनिया मे जाContinue reading “चलो मिलके ढूंढे प्यार को”